लखना- निर्भया रेप केस के आरोपियों को फाँसी तक पहुंचाने वालीं सुविख्यात वकील सीमा समृद्धि कुशवाह ,मेरे गांव जितना सुंदर कोई गांव न होगा,कोई नहीं है इसका मोल कोई इसका भाव न होगा

इटावा ब्यूरो चीफ

प्रशांत कुमार की रिपोर्ट
लखना- निर्भया रेप केस के आरोपियों को फाँसी तक पहुंचाने वालीं जनपद इटावा निवासी व भारत मे अपनी पहचान बनाने वालीं सुविख्यात वकील सीमा समृद्धि कुशवाह ने कस्वा लखना के नया-नहर पुल स्थित नंदराम कुशवाह/ममता कुशवाह (जिलामहामंत्री भाजपा इटावा) के आवास पर पहुंचकर कुशल-क्षेम जाना। वहाँ उनका जोरदार स्वागत किया गया।

दीपावली के चलते वो अपने गाँव आयीं हुईं थी। उन्होंने कहा कि अपने गाँव मे आकर बहुत खुश हूं। इसी बीच उन्होंने अपने संघर्ष के दिनों को याद किया।

उनकी शुरूवाती शिक्षा गांव और आसपास में ही हुई। इसके बाद वह लखना कस्बे के कलावती रामप्यारी स्कूल में पढ़ने गईं और वहां से इंटर की पढ़ाई पूरी की। अजीतमल पीजी कॉलेज गईं।
गौरतलब है कि दिल्ली के निर्भया कांड में सुप्रीम कोर्ट की वकील सीमा समृद्धि के प्रयासों की वजह से ही चारों दोषियों को फांसी मिल सकी थी, निर्भया के माता-पिता की वकील रही और सात साल तीन महीने की लंबी लड़ाई के बाद निर्भया के चारों गुनहगारों को 20 मार्च की सुबह फांसी के फंदे तक पहुंचाया। बतौर एडवोकेट सीमा का ये पहला केस था।

सीमा समृद्धि सुप्रीम कोर्ट की वकील हैं और निर्भया ज्योति ट्रस्ट की कानूनी सलाहकार हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त करने के बाद सीमा ने 2014 में सुप्रीम कोर्ट में वकालत शुरू की थी। सीमा 24 जनवरी, 2014 को निर्भया ज्योति ट्रस्ट से जुड़ीं थीं। सीमा कुशवाहा मूल रूप से उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के ग्राम उग्रपुरा की रहने वाली हैं। दस जनवरी 1982 को इटावा के ग्राम पंचायत बिधिपुर ब्लॉक महेवा, तहसील चकरनगर के एक छोटे से गांव उग्रपुरा में उनका जन्म हुआ था।

पिता के निधन के बाद आर्थिक तंगी के बीच सीमा ने कानून की पढाई पूरी की। पैसे की तंगी के बीच उन्होंने प्रौढ़ शिक्षा विभाग में संविदा पर नौकरी भी की। उन्होंने 2005 में कानपुर विश्वविद्यालय से एलएलबी में स्नातक की पढ़ाई पूरी की। उन्होंने उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय से 2006 में पत्रकारिता की डिग्री हासिल की थी। उसके बाद, उन्होंने राजनीति विज्ञान में एमए भी किया। सीमा पहले आईएएस अधिकारी बनना चाहती थीं इसके लिए उन्होंने तैयारी भी की थी।

सीमा कुशवाहा ने निर्भया केस के दरिंदों को सजा दिलाने के लिए एड़ी-चोटी की ताकत लगा दी। कानून के क्षेत्र में तमाम तिकड़मबाजी और तर्क-वितर्क से भरा यह केस आखिरी रात तक चला। आखिरकारी निर्भया के दरिंदों को फांसी मिली और सीमा कुशवाहा की की जीत हुई। एक प्रख्यात वकील के रूप में आज सीमा की समृद्धि दुनियाभर में बढ़ गई है।

इस मौके परअश्वनी त्रिपाठी,जिलामहामंत्री अर्पित पोरवाल,अर्जित पोरवाल,पवन यादव,शिवम सविता आदि लोग उपस्थित रहे।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button

Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129

Close