किरन ग्रुप के चेयरमेन रमेशचन्द गुप्ता ने कराया राउमावि छौंकरवाडा कला का कायाकल्प

हलैना से विष्णु मित्तल
गांव छौंकरवाडा कलां स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल की दयनीय हालत तथा नामाकंन देख गांव के मूल निवासी तथा किरन ग्रुप गांधीधाम-गुजरात के चेयरमेन रमेशचन्द गुप्ता ने स्कूल का कायाकल्प तथा नामाकंन बढोत्तरी का संकल्प लिया,साल 2015 से आज तक प्रतिवर्ष स्कूल को शैक्षिक उपकरण एवं छात्र-छात्राओं को पाठयसामग्री व यूनिफार्म आदि उपलब्ध कराते आ रहे है। साल 2015 में स्कूल का नामाकंन 45 था,जो अब 210 हो गया,स्कूल की बोर्ड की कक्षा-8वीं,10वीं एवं 12वीं का परीक्षा परिणाम में भी सुधार आया,स्कूल में केवल कक्षा 6 से 12 तक की कक्षाए संचालित है,जिसका श्रेेय एन.आर.चेरिटेबिल ट्रस्ट,ऋृषि किरण लोजिस्टिक प्रा.लि.किरन ग्रुप,लुपिन,भामाशाह, गांव के गणमान्य नागरिक आदि का रहा।
भामाशाह रमेशचन्द गुप्ता बने मददगार
स्कूल का कायाकल्प,विकास एवं नामाकंन बढोत्तरी में गांव छौंकरवाडा कलां के मूल निवासी एवं किरन ग्रुप गांधीधाम के चेयरमेन रमेशचन्द गुप्ता एवं पूर्व जिला प्रमुख द्वारिकाप्रसाद गोयल आदि मददगार बने,जो साल 2015 से आज तक स्कूल को शैक्षिक उपकरण,वाटर कूलर,फर्नीचर तथा स्कूल के समस्त छात्र-छात्राओं को प्रतिवर्ष जुलाई माह में यूनिफार्म मय जुता-मौजा व पाठयसामग्री,स्कूल बैग तथा सर्दी में गर्म जर्सिया देते आ रहे है। वहीं लुपिन के अधिशासी निदेशक सीताराम गुप्ता ने साल 2019 में बच्चों को बैठक व्यवस्था को फर्श दी
-संस्था प्रधान ने उनलब्ध कराए जुता
सर्दी में नंगे पैर देख संस्था प्रधान अनु चैधरी ने वेतन से भामाशाह रमेशचन्द गुप्ता से प्रेरणा ले कर वर्ष 2016 में एक बार स्कूल के बच्चों को जुता उपलब्ध कराए,जिसके बाद से प्रतिवर्ष भामाशाह जुता-मौजा उपलब्ध करा रहे है।
सेठजी को देख बच्चे होते खुश
किरन ग्रुप गांधीधाम के चेयरमेन रमेशचन्द गुप्ता साल मे चार बार परिवार की जन्मभूमि पर आते है और गांव के सरकारी स्कूल पहुंच कर बच्चों से बातचीत तथा गुरूजी से स्कूल की समस्या सुनते है,सभी की 24 घन्टे में समस्या का समाधान करा देते है। स्पेशल दावत तैयार करा बच्चों के मध्य विराजमान हो कर भोजन करते है। जिसको देख बच्चें सर्वाधिक खुश होते है।
-हर्बल व किचिन गार्डन विकसित
लुपिन के अधिशासी निदेशक सीताराम गुप्ता द्वारा स्कूल के बच्चों को सन्तुलित भोजन,हरी सब्जी एवं रोग-प्रतिरोदक क्षमता की औषधियां उपलब्ध कराने को लुपिन द्वारा स्कूल परिवार के सहयोग हर्बल गार्डन तथा किचिन गार्डन विकसित कराया है। वही स्कूल को हरियाली युक्त बनाने को कदम्ब,गूलर,करंज आदि से छायादार 101 पौधा लगवाए। साल 2018-19 में स्कूल के रंगरोगन को 50 हजार की राशि स्वीकृत की।
द्वारिका ने बनवाया स्कूल
गांव में भारत सरकार द्वारा वर्ष 1997 में जवाहर नवोदय स्कूल खोला,तत्कालीन सरपचं द्वारिकाप्रसाद गोयल ने भुसावर मार्ग पर स्कूल का छात्रावास व शौचालय सहित नया भवन तैयार कराया,जिस भवन में साल 1997 से 2001 तक नवोदय स्कूल चला,जो अब स्वयं के भवन में संचालित है। पूर्व सरपचं गोयल ने बताया कि साल 2008-2009 में राउमा स्कूल का पुराना भवन जयपुर नेशनल हाइवे की सीमा में आ गया,जिसे एनएचएआई एवं प्रशासन ने तोड दिया,अब ये स्कूल नवोदय स्कूल के पुराने भवन में संचालित है।
भामाशाह की मदद से बढा नामाकंन
स्कूल की संस्था प्रधान अनु चैधरी ने बताया कि स्कूल के नामाकंन में बढोत्तरी में भामाशाह रमेशचन्द गुप्ता एवं पूर्व जिला प्रमुख द्वारिकाप्रसाद गोयल की विशेष योगदान है। स्कूल की सभी प्रकार की समस्या का समाधान कराने मे सहयोग भी करते है। साल 2015 में नामाकंन 45 था,साल 2019 में 185 तथा कोरोना संक्रमण में भी नए प्रवेश हो रहे है,अब 210 हो गया,स्कूल में 6 से 12 तक की कक्षाए संचालित है,गांव से स्कूल की दूरी होने के कारण कक्षा 1 से 5 वीं तक कक्षाए संचालित नही होतीशिक्षा वास्ते स्कूल गोद।किरन ग्रुप के चेयरमेन रमेशचन्द गुप्ता ने बताया कि गांव छौंकरवाडा कलां मेरी दादा की जन्मभूमि है,जिससे मुझे लगाव हो गया,गांव से समस्त राजकीय स्कूलों को शिक्षा की गुणवक्ता में सुधार एवं नामाकंन में बढोत्तरी वास्ते गोद साल 2015 में गोद लिया,स्कूल के नामाकंन में बढोत्तरी एवं बोर्ड परीक्षा परिणाम में सुधार देख मेरा मन गदगद हो गया।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button

Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129

Close